Thursday, November 25, 2010

सहायक योग्यता

ना नेता की सिफारिश
ना रिश्वत देने को पैसे
नौकरी मिले भी तो कैसे ?

सब के सब धुरन्धर है
सबके पास हैं डिग्री
सबमे है असीम प्रतिभा
और हौसला कुछ कर गुजरने का
ऊचाईया छू लेने का,
परन्तु जब,
स्थान एक अर्जी हजार
सभी योग्य
तो क्या करे अधिकारी
किस को दे नौकरी
सभी समान प्रतिभाशाली

ऐसे मे
नेता की सिफारिश या रिश्वत
एक मात्र
“सहायक योग्यता “ है
जो हमे भीड से अलग करती है
और नौकरी दिला सकती है

29 comments:

  1. आपने तो मेरे दुखते रग पर हाथ रख दिया....
    अच्छी रचना, वास्तविकता के काफी नज़दीक...
    मेरे ब्लॉग पर..
    विश्व की १० सबसे खतरनाक सडकें.... ...

    ReplyDelete
  2. हाँ जी... सही ही है... और रिश्वत या सिफारिश में जिसकी जितनी बड़ी योग्यता उसको उतनी जल्दी नौकरी...

    ReplyDelete
  3. ... bahut badhiyaa ... shaandaar !!!

    ReplyDelete
  4. “सहायक योग्यता “ है
    जो हमे भीड से अलग करती है
    और नौकरी दिला सकती है
    ....................कटु सत्य।

    ReplyDelete
  5. गहरी बात कह दी आपने। नज़र आती हुये पर भी यकीं नहीं आता।

    ReplyDelete
  6. 4/10

    बात कडवी है पर सच है.
    प्रतिभाशाली को ही कुर्सियां मिलने की गर परंपरा शुरू हो गयी तो पूरे देश में खाली कुर्सियां ही नजर आएँगी.

    ReplyDelete
  7. चलिये किसी ने तो बेचारे अधिकारी की उलझन को समझा उसके फैसले के गणित को सही बताया |

    ReplyDelete
  8. कड़ुवा है पर सच है.

    ReplyDelete
  9. @ शेखर भाई ,
    हमारी भी यही रग दुखी थी कभी,
    यह सहायक योग्यता ना होने कारण ही आज तक नौकरी ना पा सके

    @ पूजा जी,
    आप ठीक कहती है

    @ उदय जी,
    धन्यवाद

    @ संजय भास्कर भाई,
    यकीन तो करना ही पडेगा, यही मेरा अनुभव है

    @ उस्ताद जी,
    आज आप बहुत दिनो के बाद आये है
    कविता का मूंल्याकन कर नम्बर देने के लिए धन्यवाद

    आप सबका ब्लाग पर आकर उत्साह वर्धन करने के लिए
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  10. काश कोई "सहायक योग्यता" इस बाबा को भी मिली होती तो आज बाबू तो होते.......

    मौलिक लेखन के लिए साधुवाद.

    ReplyDelete
  11. @ anshumala ji,
    @ Bhushan ji,
    @ DEEPAK DUDEJA ji,

    आपका ब्लाग पर आकर उत्साह वर्धन करने के लिए
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  12. मेरा भी पहला कदम है यहाँ...एक नौजवान की कसक का नंगा सच है यह और कड़वा बयान भी! उसताद जी की बात भी सही है!!

    ReplyDelete
  13. दीपक,
    सच है कि जिसके पैर में बिवाई हो, वही दर्द जानता है। तुमने जो लिखा, वह सच है लेकिन दोस्त इतना भी जान लो कि यही पूरा सच नहीं है।
    ठीक है हमारी बात पुरानी हो गई, आज जितना कम्पीटिशन नहीं था बीस साल पहले, लेकिन ऐसा आसान भी नहीं था कि नौकरी सबको मिल ही जाती थी। तुम्हारे इस भाई ने दो साल में दो जगह से रेजिग्नेशन देकर तीसरी जगह नौकरी की और उसके बाद भी तीन जगह के सैलेक्शन लैटर(प्रूफ़ नहीं है अगर मांगोगे तो, प्रेमपत्रों की तरह ऐसी चिट्ठियों को भी नष्ट करने में दर्द भी आता है और मजा भी) आये थे। सिफ़ारिश जरूर थी अपने पास, किसी नेता की नहीं, ऊपर वाले की कह सकते हो या सच्चाई की कह सकते हो। था यार, उस समय मैं एक्दम सच्चा, एक्दम खरा, खोटा तो बाद में हुआ हूँ:) वैसे भी कोई नेता मेरे जैसे की सिफ़ारिश क्यों करेगा और मैं ही क्यों करवाऊँ सिफ़ारिश किसी से?
    प्यारे, ये मत सोचना कि जला रहा हूँ, या अपनी महिमा गा रहा हूँ - मतलब सिर्फ़ ये है कि निराश होने की जरूरत नहीं है। जब तक एलिजिबल हो, सिर्फ़ प्रयास करते रहो क्योंकि अपने हाथ में सिर्फ़ कोशिश करना ही होता है।
    मुझे बात काटने में मजा आता है, छोटे हो मुझसे इसलिये भाषण दे दिया है। याद करोगे कभी, देख लेना।
    निराशा और नकारात्मक विचारों को बिल्कुल हावी मत होने दो। अपनी क्षमता पहचानो, बढ़ाओ और उसके अनुसार लक्ष्य निर्धारित करो।
    शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  14. समस्या तो है साहब और बहुत बड़ी है.....अच्छी बात कही...
    एक व्यंग्य मेरा भी इसीस सन्दर्भ में....
    http://swarnakshar.blogspot.com/

    ReplyDelete
  15. @ मो सम कौन,
    बडे भाई मै तो सोच ही ये रहा था कि भाई साहब कुछ इसी तरह
    की बात कहेंगे, अच्छा लगा आपका समझाना। और रही बात याद
    करने तो आपको हम भूलेंगें ही कहँा जो याद करने की जरूरत पडे।
    बस आपका प्यार व आर्शिवाद बना रहे।

    @ सम्वेदना के स्वर जी,
    भाई साहब स्वागत है आपका हमारे गरीबखाने मे,
    आने के धन्यवाद, आशा करता हूँ आते रहेंगे

    @ राजेश कुमार नचिकेता जी,
    आकर विचार व्यक्त करने के लिए आभार
    आते रहियेगा

    ReplyDelete
  16. bahu sunder
    नेता की सिफारिश या रिश्वत
    एक मात्र
    “सहायक योग्यता “ है
    जो हमे भीड से अलग करती है
    और नौकरी दिला सकती है

    ReplyDelete
  17. “सहायक योग्यता “ है
    जो हमे भीड से अलग करती है
    और नौकरी दिला सकती है


    बहुत ही सुन्‍दर बात कह दी आपने ....बेहतरीन ।

    ReplyDelete
  18. अच्छा, मतलब पहले ही जानते थे कि भाईसाहब अपनी ढपली अलग बजायेंगे?
    हा हा हा, अच्छा लगा नजरिया। इतने आराम से सुन लिया भाषण। लेकिन मैं ऐसा ही सोचता हूँ दीपक। फ़िर से शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  19. @ पुरविया जी,
    @ मृदुला प्रधान जी,
    @ सदा जी,
    ब्लाग पर आकर कविता की सराहना करके हौसलाअफजाई
    के लिए शुक्रिया।

    @ मो सम कौन,
    भाई साहब आपका भाषण ही मेरे लिए प्रेरणाश्रोत है

    ReplyDelete
  20. भीड़ से अलग करने की योग्यता ....सिफारिश या रिश्वत ...कटु सत्य

    अच्छी रचना

    ReplyDelete
  21. baat rachna ki karu to behtar. samaj ki ek badi burai ko bahut hi satik andaz me pesh kiya hai. lekin mai is se sahmat nahi hu. bura mat sochna dipak bhai, lekin tum ne hi kaha hai hamare paas ye digri nahi thi isliye naukri nahi mili. iska matlab agar hoti to tum bhi is bahti ganga me haath dhone se baaj nahi aate. dost ye ek aisi parampra hai jisko hum hi palte hai aur hum hi bhugatte hai. jarurat hai ise khatam karne ki. kayon ki tumhare saath mai bhi aise hi logo me se hu. aisa nahi tha ki me paise nahi de sakta tha par maine than liya hai paise dekar job nahi karni. agar bura laga ho to maaf karna.

    ReplyDelete
  22. @ संगीता स्वरूप (गीत) जी,
    @ गिरिश जी,
    आप आज पहली बार आये है आप का स्वागत है
    @ एहसास भाई,
    भाई बुरा मानने वाली तो कोई बात ही नही है
    मै भी तुम्हारे ही जैसा हूँ
    ब्लाग पर आकर कविता की सराहना करके हौसलाअफजाई
    के लिए शुक्रिया।

    ReplyDelete
  23. Apne ek katu satya ko udbhasit kiya hai.Plz. visit my blog.

    ReplyDelete
  24. सही कहा आपने , " एक अनार सौ बीमार " वाली स्थिति है ।

    ReplyDelete
  25. @ Prem Sarover ji
    @ ZEAL Ji,
    आपका ब्लाग पर आकर उत्साह वर्धन करने के लिए
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  26. हो तो यही रहा है आजकल

    ReplyDelete
  27. रचना भी सच और मो सम कौन की टिप्पणी भी। सिफारिश, कनैक्शन, आरक्षण, रिश्वत आदि से सबको फर्क न भी पडे, लेकिन जिन्हें पडता है उन्हें तो पडता ही है - एक लीक काजल की लागी है पै लागी है।

    ReplyDelete