Saturday, February 17, 2018

लो चला आया मैं खाली हाथ प्रिये

पाने को तुम्हारा साथ प्रिये
लो चला आया मैं खाली हाथ प्रिये
    मुद्री, मिठाई न उपहार
    है तो बस बांहो का हार
    मेरी न बंगले गाड़ी की औकात प्रिये
पाने को तुम्हारा साथ प्रिये
लो चला आया मैं खाली हाथ प्रिये
    धन नही फिर कैसी बरखा
    मैं तो हमेशा प्रेम को तरसा
    हुई मुझपे न प्रेम बरसात प्रिये
पाने को तुम्हारा साथ प्रिये
लो चला आया मैं खाली हाथ प्रिये
     मन की सोई भावनाये जगायी
     मुस्काती सी तुम जीवन मे आयी
     अब दे दो मुझको प्रेम सौगात प्रिये
पाने तुम्हारा साथ प्रिये
लो चला आया मैं खाली हाथ प्रिये
    

 
   
        
     

      
     

Thursday, February 15, 2018

तेरे दर पे कबाड़ी आया

लोहा टीन प्लास्टिक बेच
जूते, चप्पल, इलास्टिक बेच
किताब कापियां रद्दी बेच
पुरानी चीजें भद्दी बेच
लेकर अपनी गाड़ी आया , तेरे दर पे कबाड़ी आया
मारी गयी जिसकी मति , बेच दो
कमाता नही तो पति, बेच दो
पुराने मोडल का टीवी,  बेच दो
नासमझ है तो बीवी, बेच दो
खरीदने पुरानी साड़ी आया, तेरे दर पे कबाड़ी आया
आपस मे चले जो बंदूक, बेच लो
जरूरत में न खुले वो संदूक, बेच लो
जंग खायी तलवार, बेच लो
अपने मन के विकार, बेच लो
बड़ा व्यापारी अगाडी आया, तेरे दर पे कबाड़ी आया
बजता नही तो बाजा बदल लो चूरण से
कायर है तो राजा बदल लो चूरण से
जनता लूट कर जो भरे बैंक बदल लो चूरण से
चुप है जवानों की लाशों पे टैंक बदल लो चूरण से
सबसे बड़ा जुगाड़ी आया, तेरे दर पे कबाड़ी आया

Saturday, February 10, 2018

जब मुस्कुराती है बड़ी प्यारी लगती है

जब मुस्कुराती है बड़ी प्यारी लगती है
तुम्हे देखकर मन की आशाये जगती है
        किस्मत से मिला हमको ये साथ तुम्हारा है
        मन के हर कोने में बस एक नाम तुम्हारा है
        तुमसे ही बंधी मेरे इस जीवन की डोर
        तुम्ही शाम मेरी तुम ही जीवन की भोर
        मेरे मन की हर इच्छा अब तुमपे मरती है
जब मुस्कुराती है बड़ी प्यारी लगती है
तुम्हे देखकर मन की आशाये जगती है
         मेरे सूने से जीवन को बहार किया तुमने
         मै ओट भी न पाया इतना प्यार दिया तुमने
         पत्थर के कमरों को तूने घर बनाया है
         गिरते हुए परिंदे को फिर पर लगाया है
         दो फूलो की क्यारी तेरी ही खुशबू से भरती है
जब मुस्कुराती है बड़ी प्यारी लगती है
तुम्हे देखकर मन की आशाये जगती है
          तेरा मेरा ये बंधन अब जन्मो का नाता है
          तेरे सिवा कोई और नही मुझको भाता है
          तू प्रेम की मूरत है तुझमे जान हमारी है
          तू ही प्राण है मेरे और प्राणों से प्यारी है
          तेरे मन मे प्रेम भरा प्रेम ही बांटा करती है
जब मुस्कुराती है बड़ी प्यारी लगती है
तुम्हे देखकर मन की आशाये जगती है
        
        

Monday, February 5, 2018

ना तो मैं रांझा था न तू ही हीर थी


जाने कैसी ये अपनी तकदीर थी
ना तो मैं रांझा था न तू ही हीर थी
       तुझको मतलब था अपना मुझे अपना था
       था अलग लेकिन हम दोनो का सपना था
       तेरा दुख अलग था मेरी अलग पीर थी
       ना तो मैं रांझा था न तू ही हीर थी
तेरी मंजिल अलग थी मेरी ओर थी
कुछ पल को बंधी अपनी डोर थी
बड़ी प्यारी मगर उन पलों की तस्वीर थी
ना तो मैं रांझा था न तू ही हीर थी
       मैं रुक सकता था पर तुझे जाना था
       अपने सपनो को पूरा तुझे कर आना था
       प्रेम की राहों में यही जंजीर थी
      ना तो मैं रांझा था न तू ही हीर थी
तुझको जाते हुये ना मैंने टोका था
मुझको जाते हुये ना तूने रोका था
सुईया वक्त की थी या फिर तीर थी
ना तो मैं रांझा था न तू ही हीर थी