Wednesday, April 11, 2018

एक तेरे सिवा जालिम दिल ने की किसी और की चाह नही

तेरा झूठ भी सच माना हमने करी दुनिया की परवाह नही
एक तेरे सिवा जालिम दिल ने की किसी और की चाह नही
मेरी आँखें याद में तेरी अब भी झर झर बरसे
तेरे दरस को यार मेरे मेरी अब भी आंखे तरसे
कोई कितना भी खोजे पर मिलेगी  मेरे प्रेम की थाह नही
एक तेरे सिवा जालिम दिल ने की किसी और की चाह नही
तुमसे मिलकर ये जाना तुम इस जीवन की डोर
तुमसे ही है सांझ मेरी औऱ तुमसे ही है भोर
तुझसे पहले खुली कभी किसी की खातिर मेरी बाँह नही
एक तेरे सिवा जालिम दिल ने की किसी और की चाह नही
सारी दुनिया झूठी लागे तू लागे एक सच्चा
तुझसे प्यारा और कोई ना, ना कोई तुझसे अच्छा
इस प्रेम से सच्चा ना मंदिर इससे सच्ची कोई दरगाह नही
एक तेरे सिवा जालिम दिल ने की किसी और की चाह नही
कितने भी हम दूर हो चाहे ना होती हो बात
तेरी याद से ही दिन निकले तेरी याद से हो रात
तेरी बांहो से हो अच्छी इस जग में ऐसी पनाह नही
एक तेरे सिवा जालिम दिल ने की किसी और की चाह नही
तेरे प्रेम में जलता दीपक लौ तेरे संग बांधी
कुछ भी हो जाये अब न बुझेगा चाहे आये कितनी आंधी
जिस पथ मुझे तू न मिले अब चुननी मुझे वो राह नहीं
एक तेरे सिवा जालिम दिल ने की किसी और की चाह नही

Friday, April 6, 2018

वक्त मुश्किल है लेकिन संभल जाएगा

वक्त मुश्किल है लेकिन संभल जाएगा
लेकर सवेरा नया फिर कल आएगा
डूबा नही हूँ बस लहरो में फंसा हूँ
रूख लहरो का प्रयासों से बदल जायेगा
बीच मझधार में यूँ न साथ छोड़ो मेरा
मेरी मेहनत से भाग्य बदल जायेगा
आंसू को कहो आंख से आये ना अभी
आंसू का क्या है खुशी में  निकल आएगा
माना दूर है बहुत मंजिल मेरी यारो
धीरे धीरे सही कट ये सफर जाएगा

Sunday, April 1, 2018

तुम कहते हो प्यार

कैसे तौलू क्या था वो, मिला जो तुमसे उपहार
तुम कहते हो प्यार उसे,और वासना कहे संसार
         साथ चले फिर भी न मिले ज्यो नदिया के किनारे
         अलग अलग थे फिर भी एक थे अपने भाग्य सितारे
         तुम्हारे अंतर में मैं था और मेरे अंतर में थे तुम
         किस्मत ने किया अलग हमे, बने अपने अलग सहारे
         बीते इतने बरस फिर भी, नही उतरा ये ख़ुमार
         तुम कहते हो प्यार उसे,और वासना कहे संसार
कैसे तौलू क्या था वो, मिला जो तुमसे उपहार
तुम कहते हो प्यार उसे,और वासना कहे संसार
         मन मिला, तन मिला, फिर मिली समाज की बाधा
        बहुत कम पाया हमने , और खोया बहुत ज्यादा
        सैकड़ो बेड़िया तोड़ी , तब मिला प्रेम का बंधन
        अपने इस  बंधन से समाज की टूटी सब मर्यादा
        तरह तरह के आरोप लगाये, भर भर के हुंकार
        तुम कहते हो प्यार उसे,और वासना कहे संसार
कैसे तौलू क्या था वो, मिला जो तुमसे उपहार
तुम कहते हो प्यार उसे,और वासना कहे संसार

Monday, March 19, 2018

मुस्कुराना आ गया

अपने सपनो को पंख लगाना आ गया
उस शर्मिली लड़की को मुस्कुराना आ गया
अपने गाँव को छोड़ के शहर क्या गयी
उसको सेल्फी के लिए मुंह बनाना आ गया
दुनिया की बाते जिसकी समझ से परे थी
उसको भी अब बातो में उलझाना आ गया
कंफ्यूज हो जाती थी जो चार क़दम चल कर
उसको भी लोगो को रास्ता दिखाना आ गया
पलकें झुका के जो हमेशा बात करती थी
जमाने से उसको नजरें मिलाना आ गया
डर है उसके दिल से मेरा प्यार न मिट जाये
शहर जा कर उसको पैसे कमाना आ गया