Wednesday, July 27, 2011

जिंदगी खिलती है गुलज़ार बनके

जिंदगी खिलती है गुलज़ार बनके 
तुम देखो तो इसको  प्यार करके
तुम्हारे भी नाज़ उठाएगा कोई 
तुम देखो तो कभी इकरार करके 
मुंह मोडना जिंदगी से कोई बात नही 
खुश रहो हर गम से दो चार करके
अपनी जिंदगी को तुमने जाना ही कब है 
तुमने देखा ही कहाँ कभी प्यार करके 
कोई शख्स है तुम्हारी जरूरत है जिसे 
सपने तुम्ही से है  जिसके संसार भर के 
तुम जिंदगी हो किसी की कोई तुम्हारा है 
देखलो कुछ दूर तुम मेरे साथ चल के 

36 comments:

  1. बिलकुल सही कहा आपने...

    ReplyDelete
  2. मुंह मोडना जिंदगी से कोई बात नही
    खुश रहो हर गम से दो चार करके

    दीपक जी आपकी कविता की सादगी मन मोह ले गई. सुंदर.
    हाँ आपकी सूचना के लिए कि अब मैं केवल इस ब्लॉग पर लिखता हूँ. आपका यहाँ स्वागत हैं - http://meghnet.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर रचना ...

    ReplyDelete
  4. सपने तुम्ही से है जिसके संसार भर के
    तुम जिंदगी हो किसी की कोई तुम्हारा है


    वाह

    ReplyDelete
  5. सुखी और सार्थक जीवन दर्शन प्रस्तुत करती सुन्दर रचना......

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर लिखा है आपने.


    तुम जिंदगी हो किसी की कोई तुम्हारा है
    देखलो कुछ दूर तुम मेरे साथ चल के

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.

    ReplyDelete
  7. दीपक जी!
    प्रेरक कविता!!

    ReplyDelete
  8. बेहद प्यारी रचना।

    ReplyDelete
  9. Man ko chu gayi apki ye rachna........
    Jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  10. सुन्दर भावों को बखूबी शब्द जिस खूबसूरती से तराशा है। काबिले तारीफ है।

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया,
    बड़ी खूबसूरती से कही अपनी बात आपने.....

    ReplyDelete
  12. सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  13. कोई शख्स है तुम्हारी जरूरत है जिसे
    सपने तुम्ही से है जिसके संसार भर के
    तुम जिंदगी हो किसी की कोई तुम्हारा है
    देखलो कुछ दूर तुम मेरे साथ चल के

    बहुत बढ़िया...

    ReplyDelete
  14. वाकई ....मैं आपके साथ सहमत हूँ ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  15. .




    दीपक जी


    बहुत अच्छी बात कही है आपने -
    मुंह मोड़ना ज़िंदगी से कोई बात नही
    ख़ुश रहो हर ग़म से दो चार करके

    सच है, परिस्थितियों का सामना करके ही ख़ुशियां प्राप्त की जा सकती हैं … बहुत ख़ूब !

    प्यारी रचना के लिए आभार !


    हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  16. मुंह मोडना जिंदगी से कोई बात नही
    खुश रहो हर गम से दो चार करके....
    bahut khoob sir

    ReplyDelete
  17. is baar to badi achchhi kavitayen padhne ko mil rahi hain.. dhanyavaad.

    ReplyDelete
  18. तुम जिंदगी हो किसी की कोई तुम्हारा है
    देखलो कुछ दूर तुम मेरे साथ चल के
    bahut sundar...

    ReplyDelete
  19. खुश रहो हर गम से दो चार करके
    अपनी जिंदगी को तुमने जाना ही कब है baat gahri aur sundar hai ,rakhi perv ki badhai

    ReplyDelete
  20. बहुत उम्दा बात कही!!

    ReplyDelete
  21. नमस्कार....
    बहुत ही सुन्दर लेख है आपकी बधाई स्वीकार करें

    मैं आपके ब्लाग का फालोवर हूँ क्या आपको नहीं लगता की आपको भी मेरे ब्लाग में आकर अपनी सदस्यता का समावेश करना चाहिए मुझे बहुत प्रसन्नता होगी जब आप मेरे ब्लाग पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराएँगे तो आपकी आगमन की आशा में........

    आपका ब्लागर मित्र
    नीलकमल वैष्णव "अनिश"

    इस लिंक के द्वारा आप मेरे ब्लाग तक पहुँच सकते हैं धन्यवाद्
    वहा से मेरे अन्य ब्लाग लिखा है वह क्लिक करके दुसरे ब्लागों पर भी जा सकते है धन्यवाद्

    MITRA-MADHUR: ज्ञान की कुंजी ......

    ReplyDelete
  22. वाह .. क्या बात कही है .. मज़ा आ गया पढ़ के दीपक जी ..

    ReplyDelete
  23. दीपक भाई, अभी तक की तुम्हारी सबसे खूबसूरत रचना लगी ये। बधाई।

    ReplyDelete
  24. जन लोकपाल के पहले चरण की सफलता पर बधाई.

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर दीपकजी !
    https://www.facebook.com/photo.php?fbid=1806641544843&set=o.112879034459&type=1&ref=nf

    ReplyDelete
  26. कल 30/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  27. बहुत बढ़िया रचना....
    हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  28. क्या बात है बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  29. bas mere paas ye hi shabd hain vaah...vaah...vaah

    ReplyDelete
  30. जिंदगी खिलती है गुलज़ार बनके
    तुम देखो तो इसको प्यार करके

    सच कहा ... ज़िन्दगी से प्यार करोगे तभी खुशियाँ कदम चूमेंगी ....सुन्दर भाव !

    ReplyDelete
  31. जिंदगी खिलती है गुलज़ार बनके
    तुम देखो तो इसको प्यार करके.waah bahut khoob , behad khoobsurat rachna ........badhai.

    ReplyDelete