Friday, April 6, 2018

वक्त मुश्किल है लेकिन संभल जाएगा

वक्त मुश्किल है लेकिन संभल जाएगा
लेकर सवेरा नया फिर कल आएगा
डूबा नही हूँ बस लहरो में फंसा हूँ
रूख लहरो का प्रयासों से बदल जायेगा
बीच मझधार में यूँ न साथ छोड़ो मेरा
मेरी मेहनत से भाग्य बदल जायेगा
आंसू को कहो आंख से आये ना अभी
आंसू का क्या है खुशी में  निकल आएगा
माना दूर है बहुत मंजिल मेरी यारो
धीरे धीरे सही कट ये सफर जाएगा

3 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, विश्व स्वास्थ्य दिवस - ७ अप्रैल २०१८ “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर

    ReplyDelete