Saturday, May 14, 2011

रिश्ते

कितना आसान है 
रिश्ते बनाना और तोड़ देना 
मन में बसना - बसाना 
 और  फिर 
छोड़ देना  
तोड़ देना मन को 
या खिलोने को  
सरल है
परन्तु जोड़ना  ?

क्या रिश्ते  सचमुच टूटते है ?
क्या सचमुच दूर हो सकते है ?
किसी अपने   से ,
 क्या रिश्ते बनने- टूटने  के  बीच 
जो अंतराल है , 
वो कोई अहमियत नहीं रखता ?
व्यर्थ है वे पल जो 
सुख में मुस्कुराते और दुःख में रोते है 
व्यर्थ है वे बातें जो घंटो होती है ?

नहीं, ये सब व्यर्थ नहीं हो सकता 
कोई भी रिश्ता टूट नहीं सकता 
हो सकता है 
बातें बंद हो जाये 
मुलाकते बंद हो जाये 
या फिर 
एक नज़र देखना भी 
 परन्तु 
रिश्ते  हमेशा बने रहते है 
हमारे  मन में,
हमारी बातों में, 
हमारी स्मृति में ,



41 comments:

  1. सही कहा रिश्ते कभी टूटते नहीं है टूटने के बाद भी कुछ रिश्ता तो बचता ही है |

    कविता की समझ ज्यादा तो नहीं है फिर भी मुझे ऐसा लग रहा है की जैसे रचना में कविता का पुट कुछ कम है |

    ReplyDelete
  2. रिश्ते कभी भी टूटते नहीं हैं आप तोड़ना चाहेंगे तब भी नहीं तोड़ सकते हो सकता है किसी बात के चलते आपस में बातें बंद हो सकती है लेकिन रिश्ते टूट नहीं सकते हैं हमारा भाई हमेशा हमारा भाई ही रहेगा चाहे उससे हम बात करें या न करें
    बहुत दिन बाद ...................................

    ReplyDelete
  3. रिश्ते हमेशा बने रहते है
    हमारे मन में,
    हमारी बातों में,
    हमारी स्मृति में

    बहुत सुन्दर पोस्ट है

    ReplyDelete
  4. कितना आसान है
    रिश्ते बनाना और तोड़ देना
    मन में बसना - बसाना
    वाह बहुत उम्दा लिखा और सही बात भी है

    ReplyDelete
  5. रिश्ते हमेशा बने रहते है
    हमारे मन में,
    हमारी बातों में,
    हमारी स्मृति में ,bilkul sahi kaha apne... bhut hi accha likha hai apne...

    ReplyDelete
  6. नहीं, ये सब व्यर्थ नहीं हो सकता
    कोई भी रिश्ता टूट नहीं सकता
    हो सकता है
    बातें बंद हो जाये
    मुलाकते बंद हो जाये
    या फिर
    एक नज़र देखना भी
    परन्तु
    रिश्ते हमेशा बने रहते है
    हमारे मन में,
    हमारी बातों में,
    हमारी स्मृति में ,

    आपने तो मेरे दिल की हालत बयां कर दी। शुभकामनाएॅ।

    ReplyDelete
  7. रिश्ते जो एक बार बन जायें टूट नही सकते ....पर ये भी सच है कि मनमुटाव होने पर एक झीना सा परदा डालने की कोशिश तो सभी कर लेते हैं .......अच्छी प्रस्तुति .....आभार !

    ReplyDelete
  8. कोई भी रिश्ता टूट नहीं सकता
    हो सकता है
    बातें बंद हो जाये
    मुलाकते बंद हो जाये
    या फिर
    एक नज़र देखना भी
    परन्तु
    रिश्ते हमेशा बने रहते है
    हमारे मन में,
    हमारी बातों में,
    हमारी स्मृति में ,

    रिश्ते इतनी आसानी से नहीं टूटते....

    ReplyDelete
  9. कोई भी रिश्ता टूट नहीं सकता
    हो सकता है
    बातें बंद हो जाये
    मुलाकते बंद हो जाये
    या फिर
    एक नज़र देखना भी
    परन्तु
    रिश्ते हमेशा बने रहते है
    हमारे मन में,
    हमारी बातों में,
    हमारी स्मृति में ,


    १०० प्रतिशत सच कहा है आपने.............सुन्दर कविता!

    ReplyDelete
  10. वे अपने ही होते तो रिश्ते टूटते क्यों ....?? मन से नहीं टूटने चाहिए वर्ना गाँठ बहुत कसकती है !
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  11. sir word verification htane ke liye kya karana padega aap hame wo bta dijiye hame kewal likhana ata hai samay kee kamee ke karan wo bhee na karane ke liye majbur hoon to plz kaise is cheej ko hataya jayega wo aap hame jaldi se btane ka kasht kare
    kripya sujhaw dete rahen naye blogger hain dheere dheere sikh jayenge kuch samay ke aabhav ke karan bhee jankaree nahee le pate hain

    ReplyDelete
  12. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  13. केवल स्मृतियों को रिश्ता नहीं कहा जा सकता. स्मृतियाँ रिश्तों को मजबूत करने में सहायक हो सकती हैं लेकिन रिश्ते तो निरंतर सींचने से ही बढ़ते हैं.
    सुंदर रचना के लिए बधाई.

    ReplyDelete
  14. बहुत सही कहा है दीपक। रिश्ते टूटते नहीं और जो टूट गये वो रिश्ते थे ही नहीं, छलावा थे या स्वार्थसिद्धि के निमित्त।
    वैरी गुड, मैच्योर सोच:)

    ReplyDelete
  15. रिश्ते हमेशा बने रहते है
    हमारे मन में,
    हमारी बातों में,
    हमारी स्मृति में ,
    ye to sach hai ,magar man ko bahalane ke liye kabhi kabhi nakaar dete hai

    ReplyDelete
  16. rishte nabhana swayam hamare hee hath hai........
    paripakv soch kee jhalak liye sunder rachana.......
    Aabhar

    ReplyDelete
  17. thank you sir hamane word verification hta diya hai

    ReplyDelete
  18. रिश्तों की यादें हमेशा रह जाती हैं फिर रिश्ता टूटे या जुड़े ....

    ReplyDelete
  19. deepak ji
    bahut hi behatreen tareeke se aapne rishto ki vyakhya ki hai jo bante v bigdte rahte hain dil ko kasht bhi bahut jyaada hodete hain .par rishto ko itnaaasaan nahi hota hai bhula pana.

    परन्तु
    रिश्ते हमेशा बने रहते है
    हमारे मन में,
    हमारी बातों में,
    हमारी स्मृति में ,
    bahut hi steek avam yatharthprastuti
    dhanyvaad
    poonam

    ReplyDelete
  20. ek bar rista bankar agar phir toot bhi jaye to kuch rista to rahta hi hai chahe wo rista dusmani ka hi kyun na ho........ jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  21. रहिमन धागा प्रेम का, मत तोडो चटकाए,
    टूटे से फिर ना जुड़े,जुड़े गाँठ परि जाए!!

    ReplyDelete
  22. रिश्ते हमेशा बने रहते है
    हमारे मन में,
    हमारी बातों में,
    हमारी स्मृति में ,

    अच्छा लिखा और एकदम सही कहा आपने.

    ReplyDelete
  23. कोमल भावों की सुन्दर प्रस्तुति...

    सही कहा आपने ....
    रिश्ते टूट जाने के बाद भी जुड़े रहते हैं | अब यह बात अलग है कि प्यार हो या नफरत ...मगर याद तो दोनों आते हैं |

    ReplyDelete
  24. very nice creation Deepak ji .

    ReplyDelete
  25. रिश्ते हमेशा बने रहते है
    हमारे मन में,
    हमारी बातों में,
    हमारी स्मृति में

    सच है दीपक भाई.बहुत खूब लिखा है आपने.

    ReplyDelete
  26. @ अंशुमाला जी
    @ यश चंचल जी
    @ सवाई सिंह जी
    @ संजय भास्कर जी
    @ आहुति जी

    उत्साह वर्धन के लिए आभार

    ReplyDelete
  27. @ अमित जी
    @ निवेदिता जी
    @ वीना जी
    @ साहिल जी
    @ सतीश जी

    उत्साह वर्धन के लिए आभार

    ReplyDelete
  28. @ भूषण जी
    @ संजय भाई साहब जी
    @ ज्योति सिंह जी
    @ अपनत्व जी
    @ दिगंबर नासवा जी

    उत्साह वर्धन के लिए आभार

    ReplyDelete
  29. @ पूनम जी
    @ संजय आवारा जी
    @ संवेदना के स्वर जी
    @ कुंवर कुसुमेश जी
    @ सुरेन्द्र जी
    @ झील जी
    @ विशाल जी

    उत्साह वर्धन के लिए आभार

    ReplyDelete
  30. रिश्ते हमेशा बने रहते है
    हमारे मन में,
    हमारी बातों में,
    हमारी स्मृति में ,

    सच्चाई यही है.... रिश्ते कभी नहीं टूटते....सुन्दर रचना....

    ReplyDelete
  31. रिश्ते
    कितना आसान है
    रिश्ते बनाना और तोड़ देना
    मन में बसना - बसाना
    और फिर
    छोड़ देना
    तोड़ देना मन को
    या खिलोने को
    सरल है
    परन्तु जोड़ना ?

    ReplyDelete
  32. रूठे सुजन मनाइये जो रूठे सौ बार
    रहिमन फिर फिर पोइये टूटे मुक्ताहार

    ReplyDelete
  33. रिश्ते कभी नहीं टूटते....सुन्दर रचना....

    ReplyDelete
  34. बहुत सुन्दर और लाजवाब रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!
    मेरे ब्लोगों पर आपका स्वागत है!

    ReplyDelete
  35. बहुत सुन्दर कविता........
    रहिमन धागा प्रेम का, नहि तोड़ो चटकाय।
    यह टूटे फिर न जुरे, जुरे गाँठ पर जाय॥

    ReplyDelete
  36. रिश्ते हमेशा बने रहते है
    हमारे मन में,
    हमारी बातों में,
    हमारी स्मृति में ....

    रिश्तों की यही तो खासियत है....
    य़ाद आ गया है खामोशी फिल्म का गीत....
    हमने देखी है उन आँखों की महकती खुशबू,
    हाथ से छू के इसे रिश्तों का इल्जाम न दो।

    ReplyDelete
  37. सही कहा रिश्ते कभी टूटते नहीं है| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  38. रिश्ते हमेशा बने रहते है
    हमारे मन में,
    हमारी बातों में,
    हमारी स्मृति में ....

    बिल्‍कुल सच कहा है आपने ।

    ReplyDelete
  39. टिप्पणी देकर प्रोत्साहित करने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!

    ReplyDelete
  40. बहुत उम्दा लिखा

    ReplyDelete
  41. रिश्ते हमेशा बने रहते है
    हमारे मन में,
    हमारी बातों में,
    हमारी स्मृति में ..
    सच कहा है आपने.....
    सुन्दर कविता!

    ReplyDelete