Monday, April 18, 2011

तेरी यादों में

हम तेरी यादों में इस कदर खो जाते है
याद करते है तुमको और रो जाते है
लोग कहते है प्यार में नींद नहीं आती
सपने में तुझे मिलने को हम शाम से सो जाते है
सुबह उठ के मुंह धोने की जरूरत किसे ?
मेरे आंसू ही मेरा मुंह धो जाते है
किस किस लम्हे की जड़ निकालू दिल से
वो जब भी  दीखते है नया बीज बो जाते है
मिल जाते है वो हमें हर एक मोड़ पर
दुनिया की भीड़ में अक्सर लोग खो जाते है ?


37 comments:

  1. सुबह उठ के मुंह धोने की जरूरत किसे ?
    मेरे आंसू ही मेरा मुंह धो जाते है

    फिर तो साबुन की जरुरत भी नहीं होती होगी आपको ....हा..हा..हा..!
    बहुत सुंदर शब्दों में आपने प्यार के जज्बातों को अभिव्यक्त किया है ....ऐसा ही होता है अक्सर जब दिल लगी होती है ..आपका आभार इस भावमयी रचना के लिए ...!

    ReplyDelete
  2. हम तेरी यादों में इस कदर खो जाते है
    याद करते है तुमको और रो जाते है
    लोग कहते है प्यार में नींद नहीं आती
    सपने में तुझे मिलने को हम शाम से सो जाते है

    बहुत सुन्दर पोस्ट

    ReplyDelete
  3. भगवान हनुमान जयंती पर आपको हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  4. दिल्लगी से दिल की लगी तक का सफर यही तो नहीं ?

    ReplyDelete
  5. अरे भाया, हम तो सोये रहने को भी तैयार हैं अगर मिलने की बात पक्की हो जाये, सपनों में ही सही।

    ReplyDelete
  6. सुबह उठ के मुंह धोने की जरूरत किसे ?
    मेरे आंसू ही मेरा मुंह धो जाते है
    क्या बात हे,

    ReplyDelete
  7. लोग कहते है प्यार में नींद नहीं आती
    सपने में तुझे मिलने को हम शाम से सो जाते है
    बहुत ही खूबसूरत रचना....सुंदर भावों के साथ सुंदर शब्द

    ReplyDelete
  8. सुबह उठ के मुंह धोने की जरूरत किसे ?
    मेरे आंसू ही मेरा मुंह धो जाते है
    ...........बहुत बढ़िया....सही कहा आपने..

    ReplyDelete
  9. teri yaad mae shaam se hi so jate hae.....bahut khub..

    ReplyDelete
  10. सुन्दर! वो न सुन सकेगा तेरी सदा ...

    ReplyDelete
  11. मेरे आंसू ही मेरा मुंह धो जाते है...वाह !..बेहतरीन अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ,
    क्या करोगे आशिकों के हिस्से में रात कुछ इस तरह का ही काम करती है

    ReplyDelete
  13. "MAKTAB-E-ISHQ KA EK DHANG NIRALA DEKHA,
    USKO CHUTTI NA MILI; JISKO SABAK YAAD HUA.....

    BAHUT SACHCHI ABHIVYAKTI

    ReplyDelete
  14. सुबह उठ के मुंह धोने की जरूरत किसे ?
    मेरे आंसू ही मेरा मुंह धो जाते है
    क्या बात हे-2-2-2-2

    ReplyDelete
  15. अच्छे है आपके विचार, ओरो के ब्लॉग को follow करके या कमेन्ट देकर उनका होसला बढाए ....

    ReplyDelete
  16. लोग कहते है प्यार में नींद नहीं आती
    सपने में तुझे मिलने को हम शाम से सो जाते है

    भई , मुझे तो ये शेर बहुत पसंद आया.

    ReplyDelete
  17. सुबह उठ के मुंह धोने की जरूरत किसे ?
    मेरे आंसू ही मेरा मुंह धो जाते है
    बेहतरीन अभिव्यक्ति।
    आज गुड फ्राई डे क अवसर पर हार्दिक शुभकामनाएं आपको !!

    ReplyDelete
  18. अच्छा रहा यादों का सफ़र ...शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  19. बेहतरीन अभिव्यक्ति .......आभार !

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति| आभार|

    ReplyDelete
  21. लोग कहते है प्यार में नींद नहीं आती
    सपने में तुझे मिलने को हम शाम से सो जाते है ..

    Kya baat hai Deepak ji ... isi ko pyaar kahte hain .. lajawaab ...

    ReplyDelete
  22. बेहतरीन भावपूर्ण रचना के लिए बधाई ....

    ReplyDelete
  23. वाह वाह बहुत बढ़िया.... बहुत खूबसूरती से शब्दों को गूंथा है..

    ReplyDelete
  24. deepak ji namaskar
    blog par kafi dino se nahi aa paya mafi chahata hoon

    ReplyDelete
  25. 'सुबह उठके मुंह धोने की जरूरत किसे ?

    मेरे आंसू ही मेरा मुंह धो जाते हैं '

    ****************************

    चोट गहरी है मित्र ........ज़ख्म दिखाई देता है

    ReplyDelete
  26. bhai aapto kavita likhne me mahir ho gaye hain. :)

    ReplyDelete
  27. लोग कहते है प्यार में नींद नहीं आती....

    jai baba banaras........................

    ReplyDelete
  28. Bahut sunder rachana......


    ye panktiya bahut bhaee hai....

    लोग कहते है प्यार में नींद नहीं आती
    सपने में तुझे मिलने को हम शाम से सो जाते है ..

    ati sunder .

    ReplyDelete
  29. @ केवल राम जी
    @ राजपुरोहित जी
    @ सुशील बाकलीवाल जी
    @ संजय @ मौ सम कौन जी
    @ आहुति जी
    @ राज भाटिया जी

    ब्लॉग पर आकार उत्साह वर्धन के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  30. @ संजय भास्कर जी
    @ पूनम जी
    @ स्मार्ट इंडियन जी
    @ झील जी
    @ यश चंचल जी
    @ रागिनी जी
    ब्लॉग पर आकार उत्साह वर्धन के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  31. @ अरीबा जी
    @ सारा सच जी
    @ कुंवर कुसुमेश जी
    @ मदन शर्मा जी
    @ सतीश सक्सेना जी
    @ निवेदिता जी
    ब्लॉग पर आकार उत्साह वर्धन के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  32. @ Patali-The-Village जी
    @ दिगंबर नासवा जी
    @ डा वर्षा सिंह जी
    @ भारतीय नागरिक जी
    @ ओम कश्यप जी
    @ सुरेन्द्र सिंह जी
    ब्लॉग पर आकार उत्साह वर्धन के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  33. @ गोपाल मिश्र जी
    @ पूर्वीया जी
    @ अपनत्व जी
    ब्लॉग पर आकार उत्साह वर्धन के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  34. हम तेरी यादों में इस कदर खो जाते है
    याद करते है तुमको और रो जाते है
    लोग कहते है प्यार में नींद नहीं आती
    सपने में तुझे मिलने को हम शाम से सो जाते है
    sundar ahsaaso ki rachna hai ,bahut pyaari hai .

    ReplyDelete
  35. मिल जाते है वो हमें हर एक मोड़ पर
    दुनिया की भीड़ में अक्सर लोग खो जाते है

    अच्छी भावाभिव्यक्ति.

    ReplyDelete